मंगलवार, 17 जुलाई 2012

मेरे माधव ! कभी न पड़े मेरी कलुषित छाया तुझपे ,

          
   मेरे श्याम !
        तेरी मोहिनी मुस्कान देख में सारे विषाद भूल जाऊं 
                 तू क्या जाने !,क्या समझे !
              मे तेरी एक मुस्कान को संसार का सारा विष पी जाऊं 
               कोई और माँगता होगा ,अब जिन्दगी 
                            मे तेरी ये मुस्कान आँखों में लिये ही बस मौत की नींद सो जाऊं .
                          न अब कोई  आरजू हैं मेरे इन आसुओं की कोई ,
                          न इस तन को सोलह श्रंगार की खाहिश 
                        जिसने किया हो तेरी साकार छबी का दर्शन 
                        वो बिन मोल बिका हैं 
                     तुझे खुद भी नहीं पता मेरे माधव !
                 मेरे स्नेह की क्या सीमा हैं !
                    कभी न पड़े मेरी कलुषित छाया तुझपे मे 
                      सदा से ये ही सोच डरती आई     
                                 इसीलिए तेरे कदमो में ही बैठती आई ................
                      तेरी इस मुस्काती छबी पे जो शिकन मेरी छाया से आई हैं 
                        कैसे मांगू अब कृष्णा में तुझसे क्षमा !
                    बस ये मेरी स्नेहिल प्रीत मुझे तुझ तक ले आई हैं ।
                                 तेरा नाम पुकारते -पुकारते खनकते थे ,बासंती कंगना ,
                    खिल उठती थी महकती थी में ,
               तेरी बंसी की धुन पे पायल   झनकाती थी ,
               घंटो खिली रहती थी चांदनी मेरे चेहरे पे 
                  अब सब छोड़ आई हूँ तुम्हारे पास 
                 अब जो पुकारूं 
             में माधव ! मेरे राम !
                तो इस आत्मा से इन गालो तक बह उठती हैं 
                     आसुओं की निर्मल गंगा ,
                आत्मा के ताप को पल-पल बहती शीतल करती 
                        मुझे ले जाती हैं धडकनों 
               के मोक्ष की और अपने आराध्य के धाम 
          श्री चरणों में अनुभूति नहीं करेगी अब कोई पुकार 
                             मुझे देख के तो तू भी हो गया हैं माधव दुखी ,करुनामय और प्रलयंकर 
                             अब दुनिया में कोई नहीं जिसको में कभी करूँ कोई पुकार ....
         अनुभूति