शनिवार, 25 फ़रवरी 2012

एक दिव्य स्नेह की अनुभूति अपने ही अंतस से



आज एक खुबसूरत गीत सुन रही थी 
बोल थे "में पल दो पल का शायर हूँ पल दो पल मेरी कहानी हैं ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
लगा मानो में अपने ही अंतस को गुनगुना रही हूँ ,,,,,,बस  
आँखों से मोती गिरे और कुछ ये अहसास बन गए ...
                                                     
                                                     एक दिव्य स्नेह की अनुभूति अपने ही अंतस से
                                                                         
                                                                              तुम कोन हो ?
                                                    जो अनवरत मुझमे बहे जा रहे हो मुझमे ,दिन ,
                                                       प्रति दिन तुम्हारी अनुभूति हो प्रगाड़
                                                                 मुझमे समाती जा रही हैं  ।
                                                              और तुम कहे जा रहे मुझसे 
                                                                 "में तुम्हारा हिस्सा हूँ 
                                                               कल तुमसे जुदा हो जाउंगा 
                                                                आज जो तुम्हारा हिस्सा हूँ "
                                                                   कैसे कह दू तुम्हे !
                                                                  की जुदा हो जाओ, 
                                                                      तुम मुझसे !
                                                                 हां ,मे हर विप्पती मे 
                                                             अपने ही अंतस से लड़ते हुए
                                                               कभी नहीं मरने दूंगी मे तुम्हे  
                                                               तुम्हे ज़िंदा रखे हूँ ,
                                                           हां ,में तुम्हे ज़िंदा रखूंगी ।
                                                             
                                                  जिन्दगी की तमाम खुबसूरत अनुभूतियों 
                                                और आलोकिक अहसास के साथ अपनी शिराओं मे ,
                                                                 अपनी आत्मा में 
                                            और पिरोती रहूंगी शब्द करते हुए तुम्हे अनवरत वंदन 
                                                                      हां कोन हो तुम!
                                                          जो बहे जा रहे हो मुझमे अनवरत ........
                                                            श्री चरणों म़े अनुभूति