शुक्रवार, 22 जून 2012

                                                                हे मधुसुदन !
                                                              तुम्हारी ही दया हैं 
                                      जिन्दगी कभी -कभी खुबसूरत लम्हों को बहुत करीब लाती हैं 
                                               इसी खुबसुरत दिन के साथ जिन्दगी का एक ख़ास  
                                                            पसंदीदा नगमा श्री चरणों में