शुक्रवार, 18 मई 2012

" कोन हैं तू "

                                                         " कोन हैं तू "
                                                             माधव ! 
                                               में एक दासी तेरे चरणों की 
                                              मेने तोहे माना सदा अपना ठाकुर 
                                                    और अपने ओ चाकर 
                                        तेरे नाम से विष प्याला भी
                                                    मेने हँसी-हँसी 
                                                       पी डाला ,
                                                तब तुम मोहे आज पूछो 
                                                       "कोन हैं तू "     
                                                       मेरे माधव !
                                                तुम पूछा करते हो ,मोहे
                                            अपना जब कुछ रह न गया तब 
                                                        पूछो हो मोहे 
                                            मै दासी अपने ठाकुर की ,
                                              बस अब तेरे चरण मिले 
                                          बैकुंठ अब ये ही इस मिथ्या 
                                                  संसार में मेरी चाह
                                               श्री चरणों में अनुभूति