गुरुवार, 31 मई 2012

Muhammad Rafi - Sukh Ke Sub Saathi Dukh Mein Na Koi - Film Gopi (1970)

मोहे मोक्ष दीजो दीनानाथ !








हे कोस्तुभधारी !
मेरे गोविन्द !
तेरी कोस्तुभ सी चमकती छबी  मे देखू 
जबभी 
तेरा अनंत तेज अपनी आत्मा में रोशन पाऊं 
मेने सब कुछ सौप दिया तेरे चरणों में 
क्या जीवन ? क्या मृत्यु ?
मेरी हंसी में अब तेरे साथ दोनों खेले 
सोचू में माधव !
तुम तो संसार को रचने वाले 
और में तुम्हारी चरण धूलि भी नहीं 
सोचती हूँ किसी दिन जब तुम 
साकार दर्शन मुझे दोगे 
मेरे पास कुछ भी नहीं जो में जो 
तुझे दे पाऊं ,
सोचती हूँ!
राधा तरसती होगी तेरे अधरों को 
पर ,मैं  तेरे गुलाबी  कदमो को अपने अधरों से चूम लुंगी 
बस ये ही मेरी जिंदगी का मोक्ष होगा|
और जीवन को अंतिम तेरी ही शरणागति होगी ........................
मेरे माधव !
कुछ नहीं हैं अन्तर्यामी जो संसार में कोई तुझसे छिपा हो
हां इतना जानू, में
इस जीवन का ये कष्ट ही मेरे मोक्ष का मार्ग बना हो
मोहे मोक्ष दीजो
दीनानाथ !
श्री चरणों में एक करूँ पुकार अनुभूति कि भी स्वीकार कीजो ...


बुधवार, 30 मई 2012

मेरी साँसों की ये डोर टूट न जाए

मेरे माधव !
केसे छिपाऊं ?
में तुझसे मन कीबतियाँ
तेरा हँसता मुख देख में जहर भी पी जाऊं 
इस संसार में गलती  मोसे एक हो गयी 
सारी दुनिया छोड में काहे तेरे कदमो में खो गयी 
मेरी साँसे ,मेरे आंसू तुझे ही पुकारे 
और तू सब सुन के भी दूर खड़ा मुस्काए 
जानती हूँ विष प्याला मुझे पीना हैं 
कैसा हैं तेरा ये संसार ?
सीधा इंसान ,जो सहे अपना धरम निभाए 
वो सदा विष प्याला ही पीता जाए 
ये कैसी रीत रची हैं श्याम तुने 
डरती हूँ बस तेरे कदमो में आने से पहले 
तेरे दर्शन से पहले ,
मेरी साँसों की ये डोर टूट न जाए 
जाने हैं माधव तू ही मेरी पीड 
हर तरफ तू ही हैं मेरा
चाहे में तुझे पुकारूं बुलाके राम
चाहे रहीम
मेरी विपदा हरो
ओ बैकुंठ के वासी
मेरे  जगदीश !
ये कैसा न्याय प्रभु जी !
एक तरफ चमके माग में सिंदूर की रेख
और कुमकुम के सूरज की चमक तेरी
दूजे पल तू दे जाए ,
ये  विष प्याले की सीख
कोई नहीं मेरा ऐसा जिसके काँधे पे सर रख के रोलूं
मेरी  कल्पना का स्नेह भी तुम 
और तुझे ही मान बेठी में अपनी प्रीत
अब बता किसे पुकारूं में बुलाके अपना इस संसार
एक  नया कलंक क्यों तुने मेरी आत्मा को दे डाला
में इस संसार के कलंक नहीं सह पाउंगी
मेरे माधव !
डर हैं मुझे तेरे बैकुंठ से
पहले में अपने प्राण  त्यज जाउंगी .....................
ऐसा न होने देना माधव
नहीं तो में अपने सत्य वचन की लाज नहीं रख पाउंगी ..............
श्री चरणों में अनुभूति .........................


सोमवार, 21 मई 2012




हे मधुसुदन !
मौत भी मेरी मुस्कुराहठो को देख के 
मुस्कुराके लौट जायेगी 
जाने हैं क्यों ?
मेरे मुरलीमनोहर !
क्योकि वो जान लेगी की 
इन मुस्कुराहटों में तुम मुस्काते हो ......
श्री चरणों में मुस्काती हुयी अनुभूति

हूँ मैं ,अपने गिरधर की







मेरे माधव !
मुकुंद बिहारी !
हे गोविन्द ! 
इन अखियन में बसी हैं तुम्हारी मुस्काती छबी प्यारी 
में तो तेरी इस नादानी पे मुस्काती ही जाऊं 
तुझे मानू मे संसार का सबसे बड़े छलिया 
पर तेरी अधरों कि इस बंसी कि 
अजीब सी धुन पे मे मुस्काती ही जाऊं 
तुझसे मेरे स्नेह का नाता 
केसे सोच सकते हो गिरधर 
तेरी नाराजगी पे 
,तेरे रूठने पे मे तोड़ जाऊं 
साँसों के बंधन तो साँसों के साथ जाते हैं 
रूह में बसे नारायण तो रूह से केसे जुदा हो पाते हैं 
तेरी इस नादानी पे जी करता हैं 
आज में करूँ सोलह शृंगार 
और कहूँ आज मुझमे हिम्मत हैं कहने कि 
गोविन्द मुक्त हुए आत्मा से गुजरे दिन 
ही ये झूठे बंधन ,
अब में मुक्त हूँ !
किसी बोझ से 
जन्हा हूँ जैसी हूँ !
हूँ मे अपने गिरधर की
अब तो बजाओं बासुरी और में खुल के झूम पाउंगी 
कोई बोझ आत्मा पे नहीं हैं 
मे आज पग में पहन पायल नाच पाउंगी 
हां मेरे गिरधर !
मिलना बिछडना इस संसार वालो कि रीत 
तुझसे तो मेरी आत्मा कि जन्मो कि प्रीत 
अब मे तेरी हूँ |
तेरी ही रहूंगी अब दूर हूँ या पास 
हर श्वास तन मन में तुझे समाये 
ये जीवन के नवीन प्रभात 
श्री चरणों में मुस्काती हुयी अनुभूति आज

शुक्रवार, 18 मई 2012

" कोन हैं तू "

                                                         " कोन हैं तू "
                                                             माधव ! 
                                               में एक दासी तेरे चरणों की 
                                              मेने तोहे माना सदा अपना ठाकुर 
                                                    और अपने ओ चाकर 
                                        तेरे नाम से विष प्याला भी
                                                    मेने हँसी-हँसी 
                                                       पी डाला ,
                                                तब तुम मोहे आज पूछो 
                                                       "कोन हैं तू "     
                                                       मेरे माधव !
                                                तुम पूछा करते हो ,मोहे
                                            अपना जब कुछ रह न गया तब 
                                                        पूछो हो मोहे 
                                            मै दासी अपने ठाकुर की ,
                                              बस अब तेरे चरण मिले 
                                          बैकुंठ अब ये ही इस मिथ्या 
                                                  संसार में मेरी चाह
                                               श्री चरणों में अनुभूति









                                    
                                                     


                                                          

सोमवार, 14 मई 2012

इतना मात -पिता मुझे आप आशीषों





हे मधुसुदन ! 
तेरे संसार की माया भी अजीब हैं 
जिसने दिया हैं अंग -अंग ,कतरा -कतरा 
उसे याद करने की रीत भी नयी अजब निराली हैं 
सोच रही हूँ अपने का पागल कह लूँ ये ठीक हैं 
ये माँ और पिता  का दिन मनाने की 
रीत दुनिया के लोगो तुम्हारी हैं 
मे तो हर सांस में लेकर अपनी माँ से 
जीती उसकी भक्ति हूँ ,
हर विषाद हर संकट में जो मुझे सिखाये मुस्कुराके जीना 
साथ उस प्रभु के नाम के साथ 
मे उस माँ के साथ हर पल जीती हूँ 
जैसी पायी मेने माँ सत्य अनुपम पिता की शिराओं से हैं 
तो केसे कह दूँ एक दिन मात -पिता आप का हैं 
मेरा क्या हैं जिस पे में ज़िंदा हूँ वो 
स्नेह सत्य भक्ति आप ही ने मुझे पैदा करके दिया 
वो सब आप का हैं 
तो केसे मे गिरते इन आसुओं से कह दूँ 
के में एक दिन आप के लिए जीती हूँ 
मे जियूं हर सांस आप के 
दिए सत्य और भक्ति को चेतन्य रखने को 
इतना मात -पिता मुझे आप आशीषों  
श्री चरणों में अनुभुति 

शनिवार, 12 मई 2012

आत्मा का ये दासत्व तुम्हारे श्री चरणों मे .

                                                                






                                              मेरे माधव !
                                            मेरे गोविन्द !
                                           मेरे हृदयेश्वर !
                                   तुम से ही हैं जीवन मधुवन  
                 रोज सुबह तुम्हारी ही आँखों में देख मे लगाती हूँ कुमकुम 
                 अपनी आखो से पग पखारते चूमती हूँ अपने अधरों से 
                                         ये तुम्हारे गुलाबी चरण 
                                   और जानते हो इतराती हूँ, इठलाती हूँ !
                                   तुम्हारी ही आँखों से अपने को देख  
             कभी हँसती हूँ ,कभी रोती हूँ और कभी तुमसे झगड बैठती हूँ  !
                   तुमसे बतियाते -बतियाते ही हाथो में पहना करती हूँ !
                            तुम्हारे पीताम्बर सी पीली चूडियाँ अपने हाथो में 
                        और तुम्हारे काँधे से झूल के सुनाया करती हूँ !
                                       ये खनक तुम्हारे ह्रदय  को 
                और असीम स्नेह में डूबे जब तुम छेड़ते हो अधरों कि मुरलिया 
                       मे तुम्हारे कदमो में सर रखके ,सुध बुध खोये
                                      सुनती ही जाती हूँ !
                     और तुम अपनी बासुरी कि धुन की मदहोशी मे 
               खोयी पगली का खीच लिया करते हो बसंती आंचल 
                       और  शर्म से लाल हुयी अपनी पगली को 
                           कदमो से उठाकर लगा लिया करते हो 
                                      सदा अपने ह्रदय  से  ।
                                          मेरे  हृदयेश्वर  ! 
                                            मेंरे मुरलीधर !
                    इससे बड़ा भी क्या कोई स्वपन मोक्ष होगा  !

                        जानते हो न तुम कभी मुझे पुकारोगे ,
                        और में कभी तुम्हारे पुकारे बिना नहीं आउंगी 
                            इसीलिए तो स्वपनो में ही जिया करती हूँ 
                            मे बन ह्रदय संगिनी तुम्हारे साथ 
                                             मेरे नाथ !
                                    तुम  जहाँ भी हो,
                   जैसे भी हो मेने तुम्हे नहीं जाना ,नहीं देखा
                     लेकिन आत्मा ने तुम्हे अपना मान
                    न जाने ,कब से सजा लिया इस मस्तक के 
                          कुमकुम पे तुम्हे  मान अपना स्वामी
                    तुम कभी न कहो पर मेने अर्पण  कर दी हैं
                         हर श्वास तुम्हारी चरण सेवा के नाम  
                                      दासी हूँ , तुम्हारी
                और अगले सो जन्मो तक मांगती हूँ 
                                 तुम्ही से ये दासत्व
                   स्वीकार करो ,निसंकोच ,मुस्कुराते हुए
                                          हे मधुसूदन !
             मेरी आत्मा का ये दासत्व तुम्हारे इन चरण कमलों में
                                         तुम्हारी अनुभूति

मंगलवार, 8 मई 2012

कभी तो म्रत्यु को मेरे द्वार आने दो न गोविन्द !

                                                                     हे मधुसुदन !
                                                              ऐसी काहे मोसे हट 
                                                         मेरी इस काया में अब नहीं 
                                              ताकत की में और अपने को मिटा सकूँ 
                                           बंधी हूँ संसार से भी इसीलिए जरूरी हैं कुछ बंधन 
                                                     दुसरो की सेवा के भी निभा सकूँ 
                                        जीवन हैं एक विपदा ,पर तेरे साथ के कारन ही में निभा सकूँ 
                                                तुम कहो मोहे पुकारो नहीं राधे मोहे 
                                                   नहीं पुकारूं में ,मान तेरी बतिया 
                                                      पर श्याम मेरे सब को समझा लूँ 
                                                       इस आत्मा को केसे समझाऊं !
                                                      ये तो तेरी ही सुने ,माने ,साँसे ले 
                                                        मुक्त कर दे अपने ही वचनों से मुझे 
                                                    अब मर जाने दे ,जीवन न सही सुकून से म्रत्यु का आलिंगन तो होगा 
                                              सब कहते हैं थम जा जरा नया सवेरा आयेगा 
                                              चाहत किसे हैं जीने की जब पल न कटे तेरी सदा बिन 
                                                   मेरे श्याम ! 
                                  किसी को समझाना तो ठीक हैं 
                                  जिसके अधीन मेरा रोम -रोम वो नहीं समझे 
                              तो क्या मांगू ,इस संसार में 
                                       खोल दो न अब मेरे माधव !
                                         अपने बैकुंठ के द्वार 
                                    मुझे इस संसार से आने दो 
                                  मोक्ष दो प्रभु   
                                  वेसे ही सब कुछ तो तुमने मुझसे जुदा किया हैं  
                                                       अब किसके लिए मुझे यूँ ही जिदा रखा हैं ,कभी तो म्रत्यु को मेरे द्वार आने दो न 
गोविन्द   !
श्री चरणों में तुम्हारी अनुभूति 

शनिवार, 5 मई 2012

आहुति में ये प्राण ......

                                                         
हे प्रभु !
मेरे आराध्य ,
मेरे राम !
तुम्हरे सत्य सिवा कोई निधि नहीं मेरी
तुमसे ही सिखा हैं समर्पण 
तुमसे ही ली हैं आत्मा ने हर दीक्षा 
आज मेरी भक्ति ,मेरा तप ,मेरा स्नेह 
सब कुछ आक्षेपित हुआ हैं ,
मेरे राम !
आत्मा को कैसा त्रास हुआ हैं !
मेरे राम!
इस आत्मा के सदा साक्षी स्वयं तुम हो !
में सिवा तुम्हारे किसे पुकारूं ,
जो मेरे लिए कही खड़ा होगा 
मुझ अनाथ के तुम ही हो जगदीश्वर 
ये आँखे ,रुदन करता ह्रदय ,तार -तार होती आत्मा 
प्रति क्षण जर्जर होती काया 
तुममे ही विलीन होती जा रही ..........
तुम्हारी सोगंध मेरे राम 
जो तुम नहीं आये मेरी आत्मा के प्रमाण 
मै यूँ ही तुम्हारे कदमो मै रोते -रोते 
तुम्हारे चरण पखारते -पखारते 
दे दूंगी ये प्राण .
मेरे राम 
मेने हर दर्द खुशी से स्वीकार किया हैं 
लेकिन ये न सह पाऊंगी 
तुम्हे आना होगा राम 
आना होगा ,आना ही होगा 
आज संसार के छोड सारे काम 
में नहीं उठूंगी तुम्हारे कदमो को छोड 
यही  दूंगी प्राण .......या तुम चले आओ 
या स्वीकार करो 
आहुति में ये प्राण .........................
एक  रुदन करती आत्मा तुम्हारे श्री चरणों को अपने अश्रुओं से पखारती
तुम्हारी अनुभूति