बुधवार, 29 फ़रवरी 2012

अल्लाह इस रूह छूती आवाज से नशा होता हैं

                          रफ़ी साहब की खुबसूरत और नशीली आवाज से बड़ा और कोई जिन्दगी का कोई नशा नहीं और किसी का तारीफ़ ऐ अंदाजे बयाँ यूँ हो तो बात ही क्या हैं ,,,,,,,,,,,,,
     आप के हसीन रुख पे आज नया नूर हैं                       
  मेरा दिल मचल गया तो मेरा क्या कुसूर हैं ......अल्लाह इस रूह छूती आवाज से नशा होता हैं 
श्री चरणों में अनुभूति

मे तो सिर्फ तुम्हे ही पुकारूं !

   मेरे माधव !
  दुनिया किसे पुकारे में नहीं जानू 
    मे तो सिर्फ तुम्हे ही पुकारूं 
श्री चरणों में अनुभूति 

सोमवार, 27 फ़रवरी 2012

आज चाँद बेहद खुबसूरत हैं


                                  आज चाँद बेहद खुबसूरत हैं और दिल गुनगुनाना चाहता हैं ,,,,,,,,,,,
                                                           अनुभूति 

ये गीत और इसके खुबसूरत बोल

एक वंदन ,
एक पुकार ,
एक अहसास 
एक दुआ से 
भरा गीत श्री चरणों में 
ये गीत और इसके खुबसूरत बोल 
मेरा माधव !
न  हो दुनिया में तो क्या होता ?
वही रोती अखियाँ और बिछोना होता 
हां तुम हो संग मेरे तो दुनिया में हैं बहार ही बहार 
वरना की गम से भरी दुनिया में क्या रखा हैं !
मेरे मजिल भी तू ही रास्ता भी तुही 
पाया हैं तुझे तो खोया हैं खुद को 
अब किसी और की आरजू भी नहीं 
मेरे माधव   !
श्री चरणों में समर्पित हर भाव 
 
 

शनिवार, 25 फ़रवरी 2012

एक दिव्य स्नेह की अनुभूति अपने ही अंतस से



आज एक खुबसूरत गीत सुन रही थी 
बोल थे "में पल दो पल का शायर हूँ पल दो पल मेरी कहानी हैं ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
लगा मानो में अपने ही अंतस को गुनगुना रही हूँ ,,,,,,बस  
आँखों से मोती गिरे और कुछ ये अहसास बन गए ...
                                                     
                                                     एक दिव्य स्नेह की अनुभूति अपने ही अंतस से
                                                                         
                                                                              तुम कोन हो ?
                                                    जो अनवरत मुझमे बहे जा रहे हो मुझमे ,दिन ,
                                                       प्रति दिन तुम्हारी अनुभूति हो प्रगाड़
                                                                 मुझमे समाती जा रही हैं  ।
                                                              और तुम कहे जा रहे मुझसे 
                                                                 "में तुम्हारा हिस्सा हूँ 
                                                               कल तुमसे जुदा हो जाउंगा 
                                                                आज जो तुम्हारा हिस्सा हूँ "
                                                                   कैसे कह दू तुम्हे !
                                                                  की जुदा हो जाओ, 
                                                                      तुम मुझसे !
                                                                 हां ,मे हर विप्पती मे 
                                                             अपने ही अंतस से लड़ते हुए
                                                               कभी नहीं मरने दूंगी मे तुम्हे  
                                                               तुम्हे ज़िंदा रखे हूँ ,
                                                           हां ,में तुम्हे ज़िंदा रखूंगी ।
                                                             
                                                  जिन्दगी की तमाम खुबसूरत अनुभूतियों 
                                                और आलोकिक अहसास के साथ अपनी शिराओं मे ,
                                                                 अपनी आत्मा में 
                                            और पिरोती रहूंगी शब्द करते हुए तुम्हे अनवरत वंदन 
                                                                      हां कोन हो तुम!
                                                          जो बहे जा रहे हो मुझमे अनवरत ........
                                                            श्री चरणों म़े अनुभूति

 

शुक्रवार, 24 फ़रवरी 2012

हम को कृतार्थ करो !





मेरे मुरलीधर !
गोविन्द ,
गोपाल 
तेरी करू में लाखो बार पुकार 
तेरे अधरों की मरुली बिन सूना पडा हैं 
मेरा संसार 
मेरे श्याम ! 
किन युद्धों में घिरे हो 
या सच में अपनी राधा से रूठे हो .....
तुम रूठो तो रूठ भी जाऊं 
 में हर बार पडके  तोहरे चरण कमल ,
में मनाती जाऊं 
तू ही बता जो लगन तुने लगाई 
अब उसके बिन केसे जी जाऊं ?
बहती हवा तेरे चारो ही बहती जाएँ 
मुझे ये पगली अपने नाम से पुकारे जाए कहे 
तुझसी ही मे हूँ 
हां  विरले  ही कोई मोह मुझे बाँध पाया 
अब समझ तेरी भक्ति का संसार आया 
दे असीम सुख का ये अमृत 
मेरे माधव !
कँहा खो गए तुम 
पुकारो सुनो ,मेरी गिरधर !
जो हो गलती कोई मुझे क्षमा दान दो 
अब न सताओ 
साकार छबी दे अब ये स्नेह स्वीकार करो 
हां मुरली धर 
इस अधरों की मुरली की धुन से 
हम को कृतार्थ करो 
कृतार्थ करो...
 कृतार्थ करो  .........
श्री चरणों में अनुभूति का ये केसरी वंदन स्वीकार करो ...... 
   
 

मंगलवार, 21 फ़रवरी 2012

वों मासुम तन्हा सा दिलहमाराहैं


चाँद के पास जो तन्हा सितारा हैं ,
नदीकाटूटाकिनाराहैं
वों मासुम तन्हा सा दिलहमाराहैं
सोचतीहूँ !
कोईकिताबपडूपर
बिना पन्ना पलटेही
जिंदगी ने एक सबक सिखाया वो हमारा हैं ,,,,,,,,,,,,,,,अनुभूति

हमदर्दी

मेरे खुदा !
दावे थे जिनके,
हम उमर भर साथ निभायंगे ,
वो आज गैरों की बाहों में बाहें डाले नजरआतेहैं ,
हमें बेदर्द कहके दुसरो के दिलों में हमदर्दी चाहते हैं ,
या खुदा !
माफ़ करना उन्हें ,
इल्म नहीं इस बेबाक समय के नशे मैं
उन्हें की वो क्या किये जाते हैं .........
अनुभूति

रविवार, 19 फ़रवरी 2012

मेरे माधव ! बंधिनी हूँ तुम्हारी ,





 मेरे माधव !
बंधिनी हूँ तुम्हारी ,
बाँध सका कोई भौतिक बंधन ,
तुमनेअपने होठो की मुरली की धुन मे
ऐसा मुझको बांधा|
छुठा मुझसे
इस संसार के झूटे  सुख और मोह माया का नाता
दिन हो या  रात मुख पे मेरे तेरा नाम  ,
क्यों तोहे पुकारने की आदत पड़ी हैं 
लेकर कृष्णा, माधव तेरा नाम
बस कभी माधव बन के तू आ जाये सामने
तो कभी बन जाए मेरा राम !
नहीं समझ आया जीवन का ये अद्भुत सुख
संग विरह मे भी मुस्कराहट ,
बड़ेअजीबअजीब रंगदिखलाए
मुझे को तेरी ये चाहत
फूटा रूह का सागर
पाकर तेरे चरण कमलो की धुल
जो पा जाती में चरणों का स्पर्श
तो कीस असीम सुख को  मे पाती,
बस ये सब केसे अपने इन तुच्छ शब्दों में तुझ को बताती
ये कुम्हला फुल तेरे चरणों में कभी चड पायेगा
इसीलिएकहतीहूँ
इसचरणधूलिसे ,
इस पगली का जीवन धन्य हो जाएगा !
बन दासी ,बनी हूँ बंधिनी प़ियाकी
जानूजिसने स्नेह किया हो मधुसुदन
हां मिटना ही हैंउसकाजीवन
माधव स्नेह में जो बीते जीवन
फिर मिटकर भी उपवन बन जाएगा जीवन |

श्रीचरणोंमेंअनुभूति

धन्य हैं !जननी तुम्हारी


मेरे मित्रो , 
   दुनिया में बहुत सूना हैं ज़माना बड़ा खराब हैं ,और लोग दिन पे दिन खराब होते जा रहे हैं ।में उन लोगो का खंडन करती हूँ और सिर्फ ये ही कहना चाहती हूँ की आज भी दुनिया देवताओं और फरिश्तो से भरी हैं ,हां लेकिन आत्मा में दुसरो के प्रति भी उसी सम्मान के की आवश्यकता हैं जो हम दुसरो से चाहते हैं ,,,,,,,,,,,,
मेने पिछली एक महीने की बिहार और बेंगलोर की इस यात्रा के दोरान ऐसे कई लोगो से मदत प्राप्त की जिन्हें में जानती भी नहीं थी और उन्होंने  हर जगह निस्वार्थ बड़े सम्मान से मेरी मदत की ......
आज की ये कविता ईशवर और फरिश्तो के रूप में जीवित उन भले इनसानो के चरणों में मेरी श्रद्धा और विशवास के फुल हैं और धन्य हैं वो माताएँ जो आज भी अपने बच्चो को ये संस्कार देती हैं .........
ऐसा माना जाता हैं की लक्ष्मण जी ने अपनी माँ तुल्य भाभी के पेरो के नुपुर {बिछुआ }से निगाह उठाकर कभी नहीं देखा और माँ ने उसे आशीष में असीम शक्ति से भर दिया ,,,,,,उन्हें वसुधरा अपने मस्तक पे उठाने की शक्ति का वरदान दे दिया ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
कोटि -कोटि नमन करती हैं मेरी आत्मा इस अनन्य समर्पण और श्रद्धा के भाव को जिसकी आज के कलयुग में ज्यादा आवश्यकता हैं ।धन्य हैं ये भारत भूमि जिसमे मेरे वासुदेव ने इतने रूप धरे ,,,,,,,,
                                                               धन्य हैं !
                                                               तुम्हरे आखों की श्रद्धा 
                                                  जो तुमने किये सीता माँ के नुपूरो मे 
                                                           तीनो लोको के दर्शन बारम्बार 

                                                       धन्य हैं  !जननी तुम्हारी 
                                                        जिसने दिए ये संस्कार 
                                                              तुमने दे इतना सम्मान 
                                                 यूँ एक नारी का गोरव बढाया ।
                                                    
                                                         हैं नारी सम्मानित तो 
     पुरुष भी असीमशक्ति और वैभव के भर जाता                                                                                             भाव से भरी 
                                                  हर नारी की शक्ति के आशीष को वो पाता ,
                                        फिर इस पवित्रता के आगे इस संसार में दुर्लभ क्या रह जाता !
                                             
                                                        काश तुमसी श्रद्धा हर कोई पा जाता 
                                        तो ये भारत का कलयुग सतुयग में परिणित कब का हो जाता ।
                                        ऐसा नहीं इस भारत भूमि पे आज कोई लक्ष्मण और भरत नहीं 
                                                       हैं तुमसे आज भी जीवित कई 
                                                   जो माँ के नूपुरों से ऊपर कभी देखते नहीं ।

                                                                श्री चरणों में नमन 
                                                                     अनुभूति 

शुक्रवार, 17 फ़रवरी 2012

मेरे माधव !संग चली हु बन ह्रदयसंगिनी

प्रियतम मेरे
मेरा प्यार भी तुम
इन साँसों की बयार भी तुम
मेरी अदा भी तुम ,वफा भी तुम
जो तुम मुस्काओं तो बह्कुं मे
अब कहो तुम तुमसे लडू या
चिड़ियों सी फुद्कुं मे
कभी तुम्हारे उस काँधे या इस काँधे डोलूं मे
तुम लाख छूना चाहों पर हाथ न आऊं में
लेकिन इन झुकती निगाहों से मिल जाएँ,
एक निगाह तुम्हारी तो लजा जाऊं मे
बोलो प्रियतम
इन प्यारी स्नेह की वादियों में
तुम्हरा दर्द भरा गीत में गाऊं केसे ?
इस धवल प्रणय के
सुहाने मिलन को तुम बिन सजाऊं केसे ?
तुम तो अपनी राह पकड़ चल पड़े
माधव मथुरा ,
में तुम बिन ,तुम्हारी आस मे जी जाऊं केसे ?
तुम बिन राह नहीं मेरी ,
संग चली हु बन ह्रदयसंगिनी ,
साथ चलूंगी यूँ ही सदा
तुम चाहे छोड़े चले जाओं मुझे इस विरह में
प्राणप्रिये ,
लेकिन
ये आत्मा तो आगे खड़ी हैं तुम्हारे सदा
ले मस्तक पे कुमकुम तुम्हरा बनी हूँ
जन्मो की संगिनी
तो काहे इतना इस संसार से घबराते
पावन हैं, सतीत्व हैं
मेरा जीवन
मेरे माधव
तो काहे पग -पग मेरी इंतनी परीक्षाएं लिए जाते हो .......
संसार की कोई परीक्षा तुझसे मेरे माधव ,
मुझे अलग न कर पाएगी
हैं जीवन एक तपस्या तुम संग
तो क्या मिलन और क्या विरहन
ह्रदय से रुदय का मिलना पावन प्रीत पूजा
मेरे गिरधर जिसका तू हैं
वो मांगे और क्या दूजा ..............
प्रियतम मेरे अब तो दो मुस्काओं
छोड़ विरह का, मुरली की रास धुन ,कोई रचाओं
बावरी बहकी हैं प्रिय के आलिंगन
ऐसे में छोड़ काहे ,,,,,विरह का अलख जगाओं
श्री चरणों में माधव सखी अनुभूति

गुरुवार, 16 फ़रवरी 2012

लबो की ख़ामोशी ,

धडकती हूँ तुम्हारे आने से ,
खिल उठती हूँ तुम्हारे मुस्कुराने से
ये बोलते लबो की ख़ामोशी ,
मुझे तेरे दर्द की सदा देती हैं
तू कहे न कहे तेरी ये अदा
जिन्दगी की ख़ामोशी का पता देती हैं
अनुभूति

तेरी तलाश




निकला था तेरी तलाश में भटकता ही रहा
हुआ जो सामना एक दिन आईने से ,
पता चला तू तो ,कूचा ए दिल में कब से बस रहा ...............
अनुभूति

है इन्तजार , मेरे माधव आयंगे !


मेरे माधव !
विरह के दिन बीते
सजी हैं आज राधा सजन के दर्श ,
दूर से कही आती मुरली की धुन
और करे खनकते पायलो को विभोर
,बावरी इत-उत खोजे बाँट निहार
जो कदमो की आहट हो कोई ,
दीवानी उसी और भागी जाए
दिल कहे प्रियतम आयेंगे ,गायेंगे
ले अपने मधुर स्नेह आलिंगन में
अपने होठो की मधुर मुरली की धुन कानों
में घोल
अपनी असीम प्रीत की एक मोहर
इस आत्मा पे छोड़ जायंगे
.देख माधव तुझे में अपने से ही लजाऊ
में मरकर भी तेरी प्रीत निभाऊं
तेरी अद्भुत प्रीत का सागर
न शब्दों से में कह पाऊं
न बोल के बतलाऊं
तेरी प्रीत झलके मेरे कुमकुम ,
मेरी चूड़ियों की खनक
और पायलो की छमछम के सुरों में
है इन्तजार मेरे माधव आयंगे
ले अपने हाथो में हाथ
इन कंगनों से खेलते जायेंगे
मेरी इन आँखों से बरसती प्रीत
अपने अधरों से पी जायेंगे
हां सजी हैं आज राधा अपने प्रियतम के दर्श ,
करती हैं इन्तजार प्रियतम आयेंगे
भावविभोर ये आत्मा का वंदन स्वीकारो
सर्वस्व समर्पण तुम्हरा,
तुमको ही मेरे
तव चरणों में
अनुभूति


बुधवार, 15 फ़रवरी 2012

तेरी असीम प्रीत का ये अमृत




मेरे माधव !
विरले ही इस संसार में कोई तेरी ऐसी प्रीत को पाता होगा !
में
इन आँहो में दर्द और आँखों में आसूं लिए भी अद्भुत सुख की धनी हूँ जो मेरे श्याम तुने इस पवित्र प्रीत को थामा हैं ........बस मुझे युही थामे राखियों इस भव -सागर ,मै पल -पल खुश हूँ क्योकि में तेरी और हर कदम ,हर श्वास बड रही हूँ
तेरा ही अंश हूँ और तुझमे ही घुलती चल रही हूँ
मै तुझमे हूँ और तू मुझमे
ये ही रसात्मिका का जीवन हैं ,,,,,,,,,,,,मेरे माधव !
मेरा ये स्नेह नीर केसे तुझे समझाऊं !
न चूड़ी ,न पायल ,न मांग सजाऊं
फिर भी में तेरी सुहागन कहलाऊं
अहसास करुण रुदय का मुझे तुम्हारे
मेरे मुकुंद माधव !
इस सरल स्नेह सादगी पे हो बलिहारी
में इस जीवन में विरह को पाकर भी हो गयी
तेरी अखियन को प्यारी
जो बसी हूँ तुहारी इन अखियन में बन मीरा
तो क्यों खोजूं दुनिया की मिथ्या प्रीत
तेरी असीम प्रीत का ये अमृत ,
केसे तुझको दिखलाऊं !
में जानू तेरा पल-पल मिटना ,जलना
इसिलए लडती ,मरती तुझसे ये अद्भुत प्रीत निभाऊं
रोज लडूं तुमसे ही मेरे माधव !
पर तू कुछ न कहे
अंतस में अपने नीर बहा
होठो पे पत्थर की कठोरता सजा ले
में मिटने को जनम तुझपे हारी हूँ
हां ,तेरी सरलता सादगी और मुरली की धुन की में दीवानी
में पगली !
तुझे अपने से बड़ा पगला प्रेमी मे मानु
करू कोटि -कोटि नमन
मेरे श्याम ,इन चरणों में
इस पगली का बीते जीवन
यूँही अपनी श्वासों पे ले तेरा नाम
मेरे मधुसुदन !
मेरे माधव !
मेरे राम !
श्री चरणों में अनुभूति

मंगलवार, 14 फ़रवरी 2012

मेरा एक सहारा तू ही ,मेरे श्याम !


मेरे माधव !
तुम बिन मन को थाह नहीं ,
नहीं बुझे आस ये रूह की ,
जितना में तिल -तिल ज़लू
उतना ही और में तेरे स्नेह को तडपती जाऊं
जीवन मेरा तपस्या बना दिया तुने
मेरे श्याम !
तुम बिन शब्दों की वीणा सुनी
तुम बिन सुने पड़े रहते ये प्राण
तुम छेड़ अपनी मुरली की सरगम,
हमें भूल जाओं
पर ये बावरा मन
तेरी एक हर आह पड़ता जायं
तू कहे न मेरे मधुसुदन
और में कहके तेरा मन दुखाऊ ................
मेरी ये दुष्टता क्षमा करना
तुझ बिन में ये शब्दों की वीणा न छेड़ पाऊं
तुझसे जोड़ी एक बार फिर
नित चरणों में नमन की ये रीत
स्वीकार नमन ,
निभाने दे ये रीत
मेरा एक सहारा तू ही
मेरे श्याम !
और कोई न जाने मेरे मन की ये प्रीत
तेरे चरणों में जीवन वारा
अब क्या हैं भला बुरा हमारा
दो इतनि अपने स्नेह की शक्ति
की मिटने की हो इसमें शक्ति ,,,,,,,,,,,
श्री चरणों में नमन
अनुभूति