रविवार, 23 अक्तूबर 2011

खुदा


जो किसी दिल में आह हो ,
आँखोंमें किसी के अश्क हो
समझो लो तुम्हारा खुदा
तुम्हारे सामने खड़ा हैं !
अनुभूति