गुरुवार, 21 जून 2012

                                                         एक खुबसूरत नगमा
                                                        श्री चरणों में अनुभूति 

पाहि माम ! पाहि माम !पाहि माम !

                                                          मेरे माधव !
                                                कहूँ क्या में ,हालत ऐ जिन्दगी 
                                                      एक तू ही तो सब जाने हैं 
                                                 मेरा कोई दर नहीं तेरे बिना 
                                         अजीब से हालतों से गुजरती हैं जिन्दगी 
                                                 दिल कहता हैं कहूँ दूँ तुझे 
                                             की तेरे चरणों के सिवा मोक्ष नहीं मेरा 
                                                     सोचता हैं मन कहूँ केसे ? 
                                             दुनिया माने हैं तू भी मुझे न कह दे स्वार्थी 
                                                    बस ये ही खोफ दिल में बसाए 
                                               पखार रही हैं आत्मा तुहारे ये चरण 
                                                                   मेरे माधव !
                                                                   मेरे प्रभु ! 
                                                  तारो मुझे,मार्ग दो जीवन का मुझे 
                                                 पाहि माम ! पाहि माम !पाहि माम !