बुधवार, 12 दिसंबर 2012

                         रूह का चातक प्यासा मर जाया करता हैं 
                         कितने ही बरसे सावन 
                               प्रिय ,फिर भी वो स्वाति नक्षत्र की बूंद से ही प्यास बुझाया करता हैं |
                    



1 टिप्पणी:

Girish Billore ने कहा…

अति उत्तम अनु