बुधवार, 14 नवंबर 2012

कैसी लीला हैं ! गिरधर




  हे मधुसुदन !
                                                                कंचन मन ,श्यामल देह 
                                                              और तुम्हारे स्नेह की छाँव ,
                                                                        खिली हूँ , मैं 
                                                          इन नैनों से बरसे स्नेह के बदरा 
                                                                और तुम देख मुस्काओ 
                                                                  कैसी लीला हैं! गिरधर ,
                                                                    कुछ तो कह जाओ 
                                                  काहे खामोश यूँ ही देखा करते हो तुम, मुझे 
                                                  इन नैनों में अपनी छबी देख मुस्काते हो सदा 
                                                     तुम्हारे इन मूक नैनों का पाके आलिगन 
                                                               में होती हूँ ,खिली खिली 
                                                           अपने पीया की चरण संगिनी 
                                                               तुम्हारी ये खामोशियाँ 
                                                 ना जाने कितनी बाते मुझसे करके 
                              इस जीवन के केसरी, जामुनी ,पीले रंगों की खूबसूरती कह जाती हैं 
                             सोचती हूँ कब वो घड़ी आएगी ,की तुम अपने अधरों पे सजाओगे मुरलिया 
                                          और तुम्हारी ये चरण दासी तुम्हारे नाम की पायल पहन 
                                                         तुम्हे गुनगुनाती जायेगी !
                                                           हां में जानती हूँ !
                                                       मेरे कोस्तुभ स्वामी 
                                                           वो घड़ी आएगी ............
                                                       श्री चरणों में अनुभूति 
 

3 टिप्‍पणियां:

महेन्द्र श्रीवास्तव ने कहा…

बहुत सुंदर
क्या कहने

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
--
ஜ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬●ஜ
(¯*•๑۩۞۩:♥♥ :|| गोवर्धन पूजा (अन्नकूट) की हार्दिक शुभकामनायें || ♥♥ :۩۞۩๑•*¯)
ஜ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬▬▬▬▬●ஜ

Kailash Sharma ने कहा…

बहुत सुंदर भक्तिमय प्रस्तुति...