शुक्रवार, 20 जुलाई 2012

साथ

                                                                   अनुभूति

1 टिप्पणी:

वन्दना ने कहा…

वाह कितनी सुन्दर बात कही है।