बुधवार, 6 जून 2012

जीवन का वास्तविक सत्य

                                                                     मेरे आराध्य 
                                                   मेरे प्रभु सीता राम के चरणों में एक गीत 
   कुछ गीत जीवन में इतने सत्य और सार्थक होते हैं की उन्हें अपना लिया जाए उनके अर्थ को स्वीकार कर लिया जाए दो दुरूह जीवन भी सरल हो जाता हैं जीवन के लक्ष्य का पता चल जाता हैं ,स्नेह में मिटना और भगवान के चरणों की भक्ति में मिटना ये ही जीवन का वास्तविक सत्य हैं ।
                                                     श्री चरणों में अनुभूति 

कोई टिप्पणी नहीं: