शनिवार, 12 मई 2012

आत्मा का ये दासत्व तुम्हारे श्री चरणों मे .

                                                                






                                              मेरे माधव !
                                            मेरे गोविन्द !
                                           मेरे हृदयेश्वर !
                                   तुम से ही हैं जीवन मधुवन  
                 रोज सुबह तुम्हारी ही आँखों में देख मे लगाती हूँ कुमकुम 
                 अपनी आखो से पग पखारते चूमती हूँ अपने अधरों से 
                                         ये तुम्हारे गुलाबी चरण 
                                   और जानते हो इतराती हूँ, इठलाती हूँ !
                                   तुम्हारी ही आँखों से अपने को देख  
             कभी हँसती हूँ ,कभी रोती हूँ और कभी तुमसे झगड बैठती हूँ  !
                   तुमसे बतियाते -बतियाते ही हाथो में पहना करती हूँ !
                            तुम्हारे पीताम्बर सी पीली चूडियाँ अपने हाथो में 
                        और तुम्हारे काँधे से झूल के सुनाया करती हूँ !
                                       ये खनक तुम्हारे ह्रदय  को 
                और असीम स्नेह में डूबे जब तुम छेड़ते हो अधरों कि मुरलिया 
                       मे तुम्हारे कदमो में सर रखके ,सुध बुध खोये
                                      सुनती ही जाती हूँ !
                     और तुम अपनी बासुरी कि धुन की मदहोशी मे 
               खोयी पगली का खीच लिया करते हो बसंती आंचल 
                       और  शर्म से लाल हुयी अपनी पगली को 
                           कदमो से उठाकर लगा लिया करते हो 
                                      सदा अपने ह्रदय  से  ।
                                          मेरे  हृदयेश्वर  ! 
                                            मेंरे मुरलीधर !
                    इससे बड़ा भी क्या कोई स्वपन मोक्ष होगा  !

                        जानते हो न तुम कभी मुझे पुकारोगे ,
                        और में कभी तुम्हारे पुकारे बिना नहीं आउंगी 
                            इसीलिए तो स्वपनो में ही जिया करती हूँ 
                            मे बन ह्रदय संगिनी तुम्हारे साथ 
                                             मेरे नाथ !
                                    तुम  जहाँ भी हो,
                   जैसे भी हो मेने तुम्हे नहीं जाना ,नहीं देखा
                     लेकिन आत्मा ने तुम्हे अपना मान
                    न जाने ,कब से सजा लिया इस मस्तक के 
                          कुमकुम पे तुम्हे  मान अपना स्वामी
                    तुम कभी न कहो पर मेने अर्पण  कर दी हैं
                         हर श्वास तुम्हारी चरण सेवा के नाम  
                                      दासी हूँ , तुम्हारी
                और अगले सो जन्मो तक मांगती हूँ 
                                 तुम्ही से ये दासत्व
                   स्वीकार करो ,निसंकोच ,मुस्कुराते हुए
                                          हे मधुसूदन !
             मेरी आत्मा का ये दासत्व तुम्हारे इन चरण कमलों में
                                         तुम्हारी अनुभूति

कोई टिप्पणी नहीं: