गुरुवार, 22 मार्च 2012

मै बन गयी माधव ,तुम्हारी योगिनी





जीवन बन गया एक योग
और
मै बन गयी माधव

तुम्हारी योगिनी तुम्हारेअस्तित्वसेपरे ,
तुम्हारेनामसेपुकारीजातीहूँ
बिनाकिसीगुनाहकेजख्मअपनेनामकियेजातीहूँ
फिरभीसुमनबनाहैंजीवन ,
दर्दकीआहोंमेंजीनेकीचाहबडचलीहैं
हांसहते- सहतेमेतुमसंगबडचलीहूँ ,
मोक्षकेद्वारे
अपनेअंतसकीशिराओंमेंमेनेपालाहैं ,सिर्फस्नेह
निस्वार्थस्नेह ,फिरभीमेंस्वार्थीकेनामसेपुकारीजातीहूँ
जिसेनदेखाहो ,मिलाहोउसकेलिएतपस्विनीबनमिटीजातीहूँ
अगरतुमइससंसारकेसबसेबड़ेयोगीश्वर
तोमेंतुम्हारीयोगिनीबनयेजीवन,
तुम्हारेचरणोंमेंअर्पितकियेजातीहूँ
स्वीकारकरोमाधवअपनीअनुभूतिकोअपनेचरणोंमें










कोई टिप्पणी नहीं: