मंगलवार, 21 फ़रवरी 2012

वों मासुम तन्हा सा दिलहमाराहैं


चाँद के पास जो तन्हा सितारा हैं ,
नदीकाटूटाकिनाराहैं
वों मासुम तन्हा सा दिलहमाराहैं
सोचतीहूँ !
कोईकिताबपडूपर
बिना पन्ना पलटेही
जिंदगी ने एक सबक सिखाया वो हमारा हैं ,,,,,,,,,,,,,,,अनुभूति

कोई टिप्पणी नहीं: