बुधवार, 29 फ़रवरी 2012

मे तो सिर्फ तुम्हे ही पुकारूं !

   मेरे माधव !
  दुनिया किसे पुकारे में नहीं जानू 
    मे तो सिर्फ तुम्हे ही पुकारूं 
श्री चरणों में अनुभूति 

कोई टिप्पणी नहीं: