सोमवार, 27 फ़रवरी 2012

ये गीत और इसके खुबसूरत बोल

एक वंदन ,
एक पुकार ,
एक अहसास 
एक दुआ से 
भरा गीत श्री चरणों में 
ये गीत और इसके खुबसूरत बोल 
मेरा माधव !
न  हो दुनिया में तो क्या होता ?
वही रोती अखियाँ और बिछोना होता 
हां तुम हो संग मेरे तो दुनिया में हैं बहार ही बहार 
वरना की गम से भरी दुनिया में क्या रखा हैं !
मेरे मजिल भी तू ही रास्ता भी तुही 
पाया हैं तुझे तो खोया हैं खुद को 
अब किसी और की आरजू भी नहीं 
मेरे माधव   !
श्री चरणों में समर्पित हर भाव 
 
 

कोई टिप्पणी नहीं: