रविवार, 19 फ़रवरी 2012

धन्य हैं !जननी तुम्हारी


मेरे मित्रो , 
   दुनिया में बहुत सूना हैं ज़माना बड़ा खराब हैं ,और लोग दिन पे दिन खराब होते जा रहे हैं ।में उन लोगो का खंडन करती हूँ और सिर्फ ये ही कहना चाहती हूँ की आज भी दुनिया देवताओं और फरिश्तो से भरी हैं ,हां लेकिन आत्मा में दुसरो के प्रति भी उसी सम्मान के की आवश्यकता हैं जो हम दुसरो से चाहते हैं ,,,,,,,,,,,,
मेने पिछली एक महीने की बिहार और बेंगलोर की इस यात्रा के दोरान ऐसे कई लोगो से मदत प्राप्त की जिन्हें में जानती भी नहीं थी और उन्होंने  हर जगह निस्वार्थ बड़े सम्मान से मेरी मदत की ......
आज की ये कविता ईशवर और फरिश्तो के रूप में जीवित उन भले इनसानो के चरणों में मेरी श्रद्धा और विशवास के फुल हैं और धन्य हैं वो माताएँ जो आज भी अपने बच्चो को ये संस्कार देती हैं .........
ऐसा माना जाता हैं की लक्ष्मण जी ने अपनी माँ तुल्य भाभी के पेरो के नुपुर {बिछुआ }से निगाह उठाकर कभी नहीं देखा और माँ ने उसे आशीष में असीम शक्ति से भर दिया ,,,,,,उन्हें वसुधरा अपने मस्तक पे उठाने की शक्ति का वरदान दे दिया ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
कोटि -कोटि नमन करती हैं मेरी आत्मा इस अनन्य समर्पण और श्रद्धा के भाव को जिसकी आज के कलयुग में ज्यादा आवश्यकता हैं ।धन्य हैं ये भारत भूमि जिसमे मेरे वासुदेव ने इतने रूप धरे ,,,,,,,,
                                                               धन्य हैं !
                                                               तुम्हरे आखों की श्रद्धा 
                                                  जो तुमने किये सीता माँ के नुपूरो मे 
                                                           तीनो लोको के दर्शन बारम्बार 

                                                       धन्य हैं  !जननी तुम्हारी 
                                                        जिसने दिए ये संस्कार 
                                                              तुमने दे इतना सम्मान 
                                                 यूँ एक नारी का गोरव बढाया ।
                                                    
                                                         हैं नारी सम्मानित तो 
     पुरुष भी असीमशक्ति और वैभव के भर जाता                                                                                             भाव से भरी 
                                                  हर नारी की शक्ति के आशीष को वो पाता ,
                                        फिर इस पवित्रता के आगे इस संसार में दुर्लभ क्या रह जाता !
                                             
                                                        काश तुमसी श्रद्धा हर कोई पा जाता 
                                        तो ये भारत का कलयुग सतुयग में परिणित कब का हो जाता ।
                                        ऐसा नहीं इस भारत भूमि पे आज कोई लक्ष्मण और भरत नहीं 
                                                       हैं तुमसे आज भी जीवित कई 
                                                   जो माँ के नूपुरों से ऊपर कभी देखते नहीं ।

                                                                श्री चरणों में नमन 
                                                                     अनुभूति 

कोई टिप्पणी नहीं: