सोमवार, 21 फ़रवरी 2011

तेरा चेहरा और मेरे अश्क


ऐ मेरे खुदा ,
उनको,
कभी तो, 
हम पे रहम आए ,
 
कभी तो , 
ऐसा हो कि ,
उनको मेरी आँखों से गिरते इन अश्को में 
अपना चेहरा नजर आए  | 

उनको यकीन हो न हो ,
मेरा हर अश्क 
आँखों से ढलते -ढलते भी 
उन्ही के चेहरे को
 अपने अश्कों में महसूस करता हैं |


-- अनुभूति