शुक्रवार, 16 सितंबर 2011

मेरे गिरिधर , गोविन्द !तुम्हारे चरणों में स्नेह अश्रु प्रणाम



मेरे राम !
मेरे माधव !
मेरे गिरिधर , गोविन्द !
जिस दिन न करे ये आत्मा तुम्हारे चरणों में  स्नेह अश्रु प्रणाम 
इस आत्मा को चेन नहीं 
सुध नहीं ,तडपत हैं 
 मेरा रोम -रोम गिरिधर लेकर हरसांस तेरा नाम !
तेरी  साँसे छु जाएँ जब मुझे 
आत्मा हो गद -गद 
झुक जाएँ ,
ये आत्मा तेरे चरणों में 
मेरे राम ! 
कोई सांस नहीं ऐसी मेरी ,
कोई आस नहीं ऐसी मेरी 
जो बिन तुम्हारे चरण छुएं कर सके
इस संसार का कोई काम .
इस बावरी की आत्मा को बस
एक बार देना जीवन में 
तुम्हारे चरणों को अपने अश्रु जल से धोने का वरदान 

श्री चरणों में अनुभूति


कोई टिप्पणी नहीं: