मंगलवार, 21 जून 2011

खुबसूरत दुआ

                    ना जाने कितनी बार मेने दुआ पड़ी होंगी ,
लेकिन इससे खुबसूरत दुआ आज तक नहीं पड़ी |,
क्या गीता ,क्या रामायण कहे सब एक ही बात ईश्वर सदा कर मेरी आत्मा में निवास
                                                                अनुभूति

कोई टिप्पणी नहीं: