गुरुवार, 9 जून 2011

श्री राम रामशरणं भव राम राम |


मेरे आराध्य!
मेरे राम !
इस संसार मे मेरा जो कुछ भी हें प्रभु आप ही हैं|
कोई दुसरा नहीं ,
इस परीक्षा की घड़ी मे प्रभु आओ मेरे आत्मा के विशवास को साकार करो |
इस असाहय मन मे तेरी ही पुकार
बस इसके सिवा मुझे कोई ज्ञान नहीं,
मेरे राम !
ये ही वंदना आप के श्री चरणों मे प्रभु आज

"श्री राम "
श्री राम राम रघुनन्दन राम राम |
श्री राम राम भरताग्रज राम राम |
श्री राम राम रणकर्कश राम राम |
श्री राम रामशरणं भव राम राम |
श्री रामचन्द्रचरणों मनसा स्मरामि |
श्री रामचन्द्रचरणों वचसा स्मरामि |
श्री रामचन्द्रचरणों शिरसा नमामि |
श्री रामचन्द्रचरणों शरणं प्रपद्ये |
माता रामो मत्पिता रामचन्द्रः |
स्वामी रामो मत्सखा रामचंद्रो |
सर्वस्वं मे रामचन्द्रो दयालु
न अन्यं जाने नैव जाने न |

अनुभूति

कोई टिप्पणी नहीं: