गुरुवार, 2 जून 2011

गीत गाती हैं आज मन की नगरिया

     ओ कोस्तुभ धारी 
            गीत गाती हैं आज मन की नगरिया 
            जब प्रीत मिल जाती हैं बन के सावरियां .
         मेरी भक्ति , शक्ति , सभी आप 
 मेरे कृष्णा   श्री चरणों में अनुभूति

कोई टिप्पणी नहीं: