गुरुवार, 12 मई 2011

"प्राण जाएँ पर वचन न जाएँ ."

"रघु कुल रीत सदा चली आई,
प्राण जाएँ पर वचन न जाएँ ."
मेरे राम 
सत्य तो जीवन में हैं |
साकार आप से सिखा हैं राम 
जो कुछ सिखा आप से मेरे राम ,
वो सदा अक्ष्णु रहेगा ,,
बन के आत्मा का विशवास .
इन कठिन  तपस्या में भी ये अहसास हैं
साथ खड़े हो आप ,
बन के सदा स्नेह आशीष
जो में गिर  जाऊ ,
मुझे थाम हो लोगे पग -पग
कितने कठोरता से सवारना चाहो
प्रभु मुझे निस दिन ,
में करुँगी हर तपस्या तुम्हरी भक्ति की नाथ |
मेरी शक्ति , मेरा विशवास अडिग हैं|
इस मस्तक के रक्त बिंदु की तरह |
हे जगदीश्वर!
देना निस दिन कठिन तपस्या का वरदान |
इस ज्यादा आस नहीं तेरी भक्ति में मिट जाना भी हैं मेरे लिए वरदान !
  
    "अनुभूति "


कोई टिप्पणी नहीं: