गुरुवार, 28 अप्रैल 2011

काहे रूठ गए हो ,

ओ सावले सलोने कृष्णा मेरे ,
काहे रूठ गए हो ,
तुम बिना सूना पडा हैं गोकुल ,
सुनी पड़ी हैं मुरलिया मन की, 
तुब बिन रूठ गए शब्द मेरे
कहां से गाउ गीत और
केसे मनाऊ  तुम्हे 
अनुभूति

कोई टिप्पणी नहीं: