बुधवार, 2 मार्च 2011

इंतज़ार



आज थमी हैं धडकने ,
शर्म से झुकी हैं पलके 
क्योकि उनको हैं इंतज़ार 
           उनके  के आने का ..

कोई टिप्पणी नहीं: