शनिवार, 19 मार्च 2011

रात बन बेठी हैं चाँद का घूंघट



रात बन बैठी  है चाँद का घूंघट .
और इस चाँद केघूंघट  में ,
राधा को इन्तजार 
अपने कान्हा का , 

 कि कान्हा आयेंगे 
और उसके चाँद से मुख से घूंघट  उठायेंगे . 

इस आस में राधा करे इन्तजार 
 अपने कान्हा का ,
कर सोलह सिंगार |

वो कान्हा बड़ा निर्मोही ,
जब भी राह तके राधा ,
वो दे अंखियन को आंसू .

और जब आए सामने 
राधा दे मुस्काय
ओ कान्हा 
तेरी राधा बड़ी पगली ,दीवानी 
तू काहे सताए  करके मनमानी ,

ये रात नहीं आएगी दोबारा 
कि कान्हा आज सजी है घूंघट  में 
तेरी चांदनी राधा |

10 टिप्‍पणियां:

GirishMukul ने कहा…

अति सुन्दर

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत बढ़िया रचना!
आपको पूरे परिवार सहित होली की बहुत-बहुत शूभकामनाएँ!

संजय भास्कर ने कहा…

कोमल अहसासों से परिपूर्ण एक बहुत ही भावभीनी रचना जो मन को गहराई तक छू गयी ! बहुत सुन्दर एवं भावपूर्ण प्रस्तुति ! बधाई एवं शुभकामनायें !

संजय भास्कर ने कहा…

होली की सपरिवार रंगविरंगी शुभकामनाएं |
कई दिनों व्यस्त होने के कारण  ब्लॉग पर नहीं आ सका

laxmi chouhan, Anubhuti , ने कहा…

आप सबको होली की बहुत बहुत शुभकामनायें ।

डॉ० डंडा लखनवी ने कहा…

प्रशंसनीय.........लेखन के लिए बधाई।
==================================


जो तुम जाओगी तो मैं टाटा करूँगा।
किसी भी तरह वक़्त काटा करूँगा।।
न काटे क्टेगा अगर वक़्त मुझसे-
तो फोटो तुम्हारा मैं चाटाब करूँगा।।
=======================
"हर तरफ फागुनी कलेवर हैं।
फूल धरती के नए जेवर हैं॥
कोई कहता है, बाबा बाबा हैं-
कोई कहता है बाबा देवर है॥"
====================
क्या फागुन की फगुनाई है।
डाली - डाली बौराई है॥
हर ओर सृष्टि मादकता की-
कर रही मुफ़्त सप्लाई है॥
=============================
होली के अवसर पर हार्दिक मंगलकामनाएं।
सद्भावी -डॉ० डंडा लखनवी

वन्दना ने कहा…

आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
कल (21-3-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

http://charchamanch.blogspot.com/

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

खूबसूरत अभिव्यक्ति

Dr.J.P.Tiwari ने कहा…

ओ कान्हा
तेरी राधा बड़ी पगली ,दीवानी
तू काहे सताय करके मन मानी ,
ये रात नहीं आएगी दोबारा
के कान्हा आज सजी हैं घुंघट में
तेरी चांदनी राधा |

मनमोहक कथ्य, अंदाज और शाल्ली प्रभावी. बहुत पसंद आया यह भाव की उत्कृष्टता..

Dorothy ने कहा…

बेहद खूबसूरती से पिरोई दिल को छू जाने वाली रचना. आभार.
सादर
डोरोथी.