शुक्रवार, 18 मार्च 2011

वो महासागर

मेरा हर एक अश्क
 हर बार एक नया सवाल पैदा करता हैं|
क्या दुनिया वेसी हैं ?
सुनहरी जेसी हर तरफ दिखाई देती हैं 
या 
दो रंगों वाली ,
सुनहरे पलों वाली या ,
उसके पीछे छिपी  ,
बिलकुल काली और स्याह ,

एक  नन्ही सी बूंद
क्या समझ पायेगी इस दुनिया के महासागर को ?
नहीं इन्ही अनसुलझे सवालों में 
डूब जायेगी वो !
इस दुनियां के महासागर में ,
खो जायेगी कही ,
अपने अस्तित्व को सागर में डुबोये ,
और नन्ही - नन्ही बूंदों से
ही तो भरा होगा सागर,
और कहलायेगा 
वो महासागर|

2 टिप्‍पणियां:

GirishMukul ने कहा…

जी
दुनियां का सृजन शून्य से हुआ
शून्य को दुनिया नही पहचानती

नीरज गोस्वामी ने कहा…

होली की ढेरों शुभकामनाएं.
नीरज