बुधवार, 13 जनवरी 2010

तनहाई

साथ हो तुम फिर भी तनहाई  है मन के आँगन मै
सब कुछ है पर तुम बिन सुनी पड़ी है आहटे

कोई टिप्पणी नहीं: